बिना अपनी पहचान बताये भेजे मैसेज- सराहा ऐप

0
110

पिछले एक हफ्ते से सोशल नेटवर्किंग साइट पर सराहा नाम के एक ऐप का जादू छाया हुआ है। यह ऐप कुछ महीनों पहले लॉन्च हुआ था और मिस्त्र व सऊदी अरब जैसे देशों में यह तेजी से लोकप्रिय हो रहा है। लेकिन अब Sarahah App अचानक से भारत में सुर्खियों में आ गया है और लोगों पर इसका जादू सिर चढ़कर बोल रहा है।

सराहा ऐप क्या है?
सराहा एक ऐसा ऐप है जिससे यूज़र अपना नाम बताए बिना ही मैसेज भेज और रिसीव कर सकते हैं। ऐप बनाने वालों का कहना है कि सराहा ऐप के जरिए लोग रचनात्मक अनजान मैसेज के लिए मिलने वाले फीडबैक से सेल्फ डेवलिंग में मदद मिलती है। सराहा एक अरबी शब्द है जिसका मतलब होता है ‘ईमानदारी’।

इस ऐप को इस्तेमाल करना बेहद आसान है। यूज़र को अपनी सराहा प्रोफाइल बनानी होती है जिसे कोई भी देख सकता है। लॉगइन किए बिना भी कोई यूज़र आपकी प्रोफाइल विज़िट कर सकता है और आपके लिए एक अनजान व्यक्ति के तौर पर मैसेज छोड़ सकता है। अगर सामने वाले यूज़र ने लॉगइन किया है तो भी डिफॉल्ट तौर पर मैसेज भेजने वाले का नाम ज़ाहिर नहीं होता है। लेकिन यूज़र अपनी पहचान को ज़ाहिर करने का विकल्प चुन सकते हैं। इस ऐप की कमी यह भी है कि बिना पहचान बताए ऐप से भेजे जाने वाले मैसेज से नुकसान होने का भी खतरा है।

मैसेज रिसाव करने वाले यूज़र के ऐप पर, आने वाले सभी मैसेज इनबॉक्स में दिखते हैं। और आप उन मैसेज को फ्लैग, डिलीट, रिप्लाई करने के अलावा उन्हें बाद में आसानी से खोजने के लिए फेवरेट मार्क कर सकते हैं। ऐप को गूगल प्ले  और ऐप स्टोर से मुफ्त डाउनलोड कर सकते हैं। इसके अलावा वेबसाइट पर भी अकाउंट बनाया जा सकता है।

अब, ऐप के डेवलेपर भी यूज़र के अनुभव को और बेहतर बनाने के इरादे से इसमें कई सुधार कर रहे हैं। ऐप में कई प्राइवेसी फ़ीचर मौज़ूद हैं- जैसे कि सर्च रिज़ल्ट से अपनी प्रोफाइल हटाना, कौन-कौन लोग आपकी प्रोफाइल शेयर कर सकते हैं और आप अनऑथराइज़्ड यूज़र को अपनी प्रोफाइल एक्सेस करने से भी रोक सकते हैं। इसके अलावा आप मैसेज भेजने वाले व्यक्ति को ब्लॉक कर सकते हैं, इसलिए अगर आपको किसी यूज़र का नाम भले ही ना पता हो लेकिन वो आपको दोबारा मैसेज नहीं भेज पाएंगे।

बता दें कि यह पहला ऐप नहीं है जिसमें बिना नाम बताए किसी को मैसेज भेज सकते हैं। Yik Yak, Secret, और Whisper जैसे दूसरे लोकप्रिय ऐप भी हैं जिनका इस्तेमाल भी बिना पहचान ज़ाहिर किए मैसेज भेजनेके लिए किया जाता है। जहां ये मैसेज ज़्यादा सोशल हैं और लोगों के बीच ज़्यादा संवाद हो रहा है। वहीं सराहा का मुख्य उद्देश्य मैसेजिंग पर है और सोशल मीडिया पर कम। इसलिए दूसरे यूज़र की प्रोफाइल पर जाने से आपको कुछ नहीं मिलेगा, अगर उन्होंने अपनी पोस्ट पब्लिक ना की हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here